Breaking News
Home / breaking / सांप के जहर पर भारी है तेजाजी की तांती, जानिए क्या है मान्यता

सांप के जहर पर भारी है तेजाजी की तांती, जानिए क्या है मान्यता

 

 

आज भाद्रपद मास शुक्ल पक्ष की दशमी तिथि को तेजा दशमी है। यह पर्व मुख्य तौर पर राजस्थान सहित मध्य प्रदेश के मालवा, निमाड़, झाबुआ आदि में पूरी श्रद्धा के साथ मनाया जाता है। इस दिन तेजाजी महाराज के मंदिरों पर मेला लगता है, जहां सर्पदंश से पीडि़त सहित अन्य जहरीले कीड़ों से बचाव के लिए तांती (धागा) छोड़ा जाता है। श्रद्धालु नारियल, खीर, चूरमा आदि का तेजाजी को भोग लगाते हैं। कई जगह बड़े मेले भरते हैं तो कई जगह पशु मेले भी होते हैं। नवमी को रातीजगा करने के बाद दूसरे दिन दशमी को जिन-जिन स्थानों पर वीर तेजाजी के मंदिर हैं, मेला लगता है।

यह है मान्यता

तेजा मंदिरों में वर्षभर से पीड़ित, सर्पदंश सहित अन्य जहरीले कीड़ों की ताँती (धागा) छोड़ा जाता है। सर्पदंश से पीड़ित मनुष्य, पशु यह धागा सांप के काटने पर, बाबा के नाम से, पीड़ित स्थान पर बांध लेते हैं। इससे पीड़ित पर सांप के जहर का असर नहीं होता है और वह पूर्ण रूप से स्वस्थ हो जाता है।

खरनाल में जन्म

लोक देवता तेजाजी का जन्म राजस्थान के नागौर जिले के खरनाल में हुआ था। इनकी निर्वाण स्थली अजमेर जिले में रूपनगढ़ के निकट सुरसुरा है।

जाट वीर धौलिया वंश गांव खरनाल के मांय।

आज दिन सुभस भंसे बस्ती फूलां छाय।।

शुभ दिन चौदस वार गुरु, शुक्ल माघ पहचान।

सहस्र एक सौ तीस में प्रकटे अवतारी ज्ञान।।

तेजाजी की कथा

तेजाजी राजा बाक्साजी के पुत्र थे। बचपन में ही उनके साहसिक कारनामों से लोग आश्चर्यचकित रह जाते थे। एक बार अपने हाली (साथी) के साथ तेजा अपनी बहन पेमल को लेने उसकी ससुराल गए। बहन पेमल की ससुराल जाने पर वीर तेजा को पता चलता है कि मेणा नामक डाकू अपने साथियों के साथ पेमल की ससुराल की सारी गायों को लूट ले गया। वीर तेजा अपने साथी के साथ जंगल में मेणा डाकू से गायों को छुड़ाने के लिए गए। रास्ते में एक बांबी के पास भाषक नामक सांप घोड़े के सामने आ जाता है एवं तेजा को डसना चाहता है।

तब तेजा उसे वचन देते हैं कि अपनी बहन की गाएं छुड़ाने के बाद मैं वापस यहीं आऊंगा, तब मुझे डंस लेना। अपने वचन का पालन करने के लिए डाकू से अपनी बहन की गाएं छुड़ाने के बाद लहुलुहान अवस्था में तेजा नाग के पास आते हैं। तेजा को घायल अवस्था में देखकर नाग कहता है कि तुम्हारा तो पूरा शरीर कटा-पिटा है, मैं दंश कहां मारूं। तब वीर तेजा उसे अपनी जीभ पर काटने के लिए कहते हैं।

वीर तेजा की वचनबद्धता को देखकर नाग उन्हें आशीर्वाद देते हुए कहता है कि आज के दिन (भाद्रपद शुक्ल दशमी) से पृथ्वी पर कोई भी प्राणी, जो सर्पदंश से पीड़ित होगा, उसे तुम्हारे नाम की ताँती बांधने पर जहर का कोई असर नहीं होगा।

यही कारण है कि भाद्रपद शुक्ल दशमी को तेजाजी के मंदिरों में श्रृद्धालुओं की भीड़ उमड़ती है और सर्पदंश से पीड़ित व्यक्ति वहां जाकर तांती खोलते हैं।

 

Check Also

छोटी-सी लड़की की खोज से हो सकता है बड़ी महामारी का इलाज

नई दिल्ली। अमेरिका में बसी भारतीय मूल की 8वीं कक्षा की 14 साल की एक …