Breaking News
Home / breaking / VIDEO : योगीराज श्रीकृष्ण के जन्मोत्सव पर बंटी बधाइयां

VIDEO : योगीराज श्रीकृष्ण के जन्मोत्सव पर बंटी बधाइयां

 

मथुरा। महायोगी श्रीकृष्ण का जन्मोत्सव इस बार सोमवार को दुर्लभ संयोग के बीच मनाया गया। अष्टमी तिथि और रोहिणी नक्षत्र के बीच जयंती योग में कान्हा ने रात 12 बजे जन्म लिया था। इसी योग में कान्हा का जन्म द्वापर युग में हुआ था। ऐसा संयोग 27 वर्ष बाद हो रहा है। यही नहीं कान्हा के जन्म के वक्त सर्वार्थ सिद्ध योग तो था ही, चन्द्रमा भी वृषभ (उच्च) राशि में थे। इस मौके पर कृष्ण जन्मभूमि मथुरा समेत देशभर में जमकर बधाइयां बंटी।

हिंदू पंचांग के अनुसार भाद्रपद मास के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि मध्यरात्रि को भगवान कृष्ण का जन्मोत्सव मनाया जाता है। दीपक ज्योतिष भागवत संस्थान के निदेशक ज्योतिषाचार्य कामेश्वर चतुर्वेदी ने बताया कि द्वापर युग में मथुरा पुरी में कंस के कारागार में भाद्रपद मास कृष्ण पक्ष अष्टमी तिथि को रोहिणी नक्षत्र में उच्च (वृष) राशि के चंद्रमा में भगवान श्री कृष्ण ने निशीथ बेला में रात के 12.00 बजे जन्म लिया था। इस वर्ष जन्माष्टमी रोहिणी नक्षत्र और चंद्रमा वृष राशि में रहते हुए मनाई गई। इसके अलावा जन्माष्टमी पर सर्वार्थ सिद्धि योग एवं जयंती योग भी रहा है। मान्यता है कि सर्वार्थ सिद्धि योग में पूजा-पाठ और शुभ कार्य की शुरुआत करना अच्छा होता है।

देखें वीडियो

 

 

द्वापर युग में भगवान श्रीकृष्ण का जन्म भाद्रपद मास के कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि, रोहिणी नक्षत्र और चंद्रमा के वृष राशि में रहते हुआ था। इस तरह का संयोग इस बार भी जन्माष्टमी के दिन बना है। साहित्याचार्य शरद चतुर्वेदी ने बताया कि इस वर्ष दृश्य गणित एवं प्राचीन गणित के पंचांगों के आधार पर स्मार्त एवं वैष्णव एक साथ 30 अगस्त को श्री कृष्ण जन्माष्टमी महोत्सव मनाएंगे। इसके पहले 5 सितंबर 2015 को एक साथ जन्माष्टमी मनाई गयी थी।

आह भक्तों ने भगवान श्री कृष्ण को प्रसन्न करने के लिए भोग लगाकर आरती की। उन्हें माखन, मिश्री, दही, दूध, केसर, मावे, घी, मिठाई, आदि का भोग लगाकर पलना झुलाया। सभी मंदिरों में देर रात तक भीड़ रही।

Check Also

धर्मांतरण मामले में मौलाना के तीन साथी अरेस्ट, खातों में मिले 20 करोड़

लखनऊ। उत्तर प्रदेश पुलिस के आतंकवाद निरोधी दस्ते ने अवैध धर्मांतरण मामले में मेरठ से गिरफ्तार …