Breaking News
Home / breaking / लॉकडाउन में जरूरतमंद की सुध ले रहे नामदेव छीपा बंधु

लॉकडाउन में जरूरतमंद की सुध ले रहे नामदेव छीपा बंधु

न्यूज नजर डॉट कॉम
अजमेर। कोरोना संकट के बीच लॉकडाउन से प्रभावित लोगों की मदद में कई नामदेव छीपा समाज बंधु भी जुटे हैं। जयपुर के सांगानेर में रामपुरा रोड पर समाजसेवी राधेश्याम बैराठी ने कमान संभाल रखी है तो दूसरी ओर श्री राम सेवा दल संस्थान लोगों तक राहत सामग्री पहुंचाने में जुटा है।
  राधेश्याम बैराठी करीब 10 दिन से अपने पुत्र  दुर्गेश बैराठी के साथ दिन- रात एक कर रहे हैं। वे सुबह जल्दी उढ़कर  सर्वप्रथम जहां से फोन आते वहां पर कार में खाद्य सामग्री पहुंचाने का कार्य अपने पुत्र एवं  सहयोगी  के द्वारा कर रहे हैं। साथ ही कोई लेने आ जाता हैं तो संबंधित को खाधान्न सामग्री के पैकेट देने का भी काम कर रहे हैं। दिन में पुनः खाद्य सामग्री को पैक करवाकर सायं 6:15 बाद फिर खाद्य सामग्री वितरित करने निकलते हैं।
अब तक वे निजी स्रोतों से 109 से अधिक पैकेट वितरित कर चुके हैं। राहत सामग्री वितरण में सर्वप्रथम नामदेव छीपा समाज के जरूरतमंद उसमें भी विशेष तौर पर अनाथ, असहाय, विधवा, परित्यक्ता, विकलांग,असक्षम को वरीयता दी गई हैं।
 सभी से अनुरोध है कि  कृपया अपने आसपास  जो भी कोई ऐसा समाज बंधु  इस परेशानी से गुजर रहा है वह नवीन राजस्थान स्कूल के पास राधेश्याम बैराठी  के निवास स्थान पर संपर्क कर सकता है या उनके मोबाइल नंबर 9667074403  पर संपर्क कर सकता है।
इसी तरह श्री राम सेवा दल संस्थान के तत्त्वावधान में पिछ्ले 8 दिनों से लगातार संस्थान भोजन सामग्री जरूरतमंद में वितरित की जा रही है। श्री राम सेवा दल के अध्यक्ष मनोज कुमार छीपा ने बताया की सभी भामाशाह के सहयोग से भोजन वितरण किया जा रहा है। 
 राम कीर्ति, रामबाबू पापड़दा, कन्हैयालाल खींची, विजय कुमार कॉलोनी मनोज कुमार गोठवाल, राजेश गोठवाल, घनश्याम, हुकुमचंद, लक्की छिपा, आनंद बल्लभ उदयवाल आदि कार्यकर्ताओं का भरपूर सहयोग मिल रहा है।
सांगानेर में अभी तक 900 के लगभग परिवारों को संस्था भोजन सामग्री पहुंचा चुकी है। इसमें जयपुर गेट लक्ष्मी कॉलोनी, खटीको का मोहल्ला, गणेश मोहल्ला, कोली मोहल्ला, छिपा का मोहल्ला, धोबिया का मोहल्ला, चंपा राम जी की बगीची आदि जगहों पर भोजन वितरण कर चुकी है।  लक्ष्य है कि जब तक यह कोरोना महामारी की वजह से परेशानी चलेगी तब तक संस्था जितना हो सकेगी भोजन सामग्री जरूरतमंद के पास पहुंचाएगी।

Check Also

संता 10 रुपये दे मैंने तुझे लाख रुपये की बात बताऊँगा

    संता – मुझे 10 रुपये दे बंता – तो मेरा क्या फायदा होगा …