Breaking News
Home / breaking / सरपंच ने 3 बीवियों के साथ एक साथ रचाई शादी

सरपंच ने 3 बीवियों के साथ एक साथ रचाई शादी

 

भोपाल। शादी वो पवित्र बंधन है जिससे दूल्हा और दुल्हन यानि एक जोड़ा अपने दांपत्य जीवन की शुरआत करता है. जिसमें जोड़े को सभी आशीष देने भी पहुँचते है. यूं तो आपने ऐसी ही शादी देखी होगी, लेकिन इन दिनों जो वीडियो वायरल हो रहा, वैसी शादी आपने न कभी देखी होगी न कभी सुनी होगी.

 

सोशल मीडिया पर आये दिन शादी की कुछ जरा हटके तस्वीरें और वीडियोज़ वायरल होती रहती हैं. इन वीडियोज़ में से कुछ ऐसी कहानियां भी सामने आती हैं जो शादी को लेकर आपका नज़रिया ही बदल दें. ऐसा ही एक वीडियो इन दिनों सोशल मीडिया की दुनिया में तैर रहा है. जहां एक पुरुष ने अपनी तीन प्रेमिकाओं संग एक ही मंडप में शादी रचाई. इतना ही नहीं जब ये शादी की गई तब दूल्हे के 6 बच्चे भी मौजूद थे.

यह पूरी घटना मध्यप्रदेश के आदिवासी बहुल अलीराजपुर जिले की बताई जा रही है. जहां वीडियो में देखा जा सकता है कि कैसे पूरी गाँव की भीड़ दूल्हे को आने कंधे पर बैठकर नचा रही है. जानकारी के अनुसार गांव के सभी लोग इस शादी में शामिल हुए थे. इस शादी के लिए निमंत्रण कार्ड भी छपवाया गया था. जिसमें एक नहीं, दो नहीं, बल्कि तीन-तीन बीवियों का नाम लिखा गया था.

तीनों स्त्रियों से हुआ प्यार

तीन स्त्रियों से शादी कर रहे इस दूल्हे का नाम समरथ मौर्या है. समरथ नानपुर इलाके का सरपंच है. समरथ की माने, तो उसे 15 साल के अंदर ही तीन अलग-अलग लड़कियों से प्यार हो गया. बारी-बारी से वह तीनों लड़कियों को भगाकर अपने घर ले आया और तीनों को एक साथ एक ही छत के नीचे पत्नी की तरह रखने लगा. इसी बीच युवक के तीनों प्रेमिकाओं से उसे कुल 6 बच्चे भी हुए. इस शादी में सभी बच्चे शामिल हैं और सभी साथ मिलकर डांस कर रहे हैं.

यह भी देखें

गरीबी के कारण नहीं हो पायी थी शादी

अटपटी शादी के इस दूल्हे ने अपनी ख़ुशी जाहिर की है. उसका कहना है कि वह 15 साल पहले गरीब था. गरीबी के कारण वह शादी नहीं कर पाया था और अब अपनी इच्छा पूरी की है. बता दें, समरथ आदिवासी भिलाला समुदाय से आता है. ये भारत के उन चुनिंदा समुदायों में से एक है जिसमें, लिव-इन में रहने और बच्चे करने की छूट है.

Check Also

ससुराल वाले डाल रहे थे धर्मान्तरण का दबाव, दामाद ने की खुदकुशी

मेरठ। एक हिंदू युवक के सुसाइड का सनसनीखेज मामला सामने आया है. अहम बात यह …