Breaking News
Home / breaking / गोलगप्पों का चटपटा पानी बना जहर, 5 दर्जन लोगों की बिगड़ी तबीयत

गोलगप्पों का चटपटा पानी बना जहर, 5 दर्जन लोगों की बिगड़ी तबीयत

 

सिरोही/आबूरोड/रेवदर। रेवदर तहसील के दत्ताणी के निकट स्थित वास पालडी गांव में पानी पताशे का कहर देखने को मिला। यहां स्थित एक दुकान से पानी-पताशे खाने के बाद करीब 65 लोग बीमार पड गए। इस घटना के बाद हरकत में आए प्रशासन ने दुकानदार को गिरफ्तार करके वहां से सेम्पल ले लिए हैं।

अधिकांश लोगों को आबूरोड सीएचसी में भर्ती करवाया गया। इसी गांव के छह जनों को जिला चिकित्सालय में रेफर किया गया। जिला कलक्टर बाबूलाल मीणा ने देर रात को सिरोही जिला चिकित्सालय में भर्ती मरीजों की कुशलक्षेम पूछी।

रेवदर तहसील के वास पालडी गांव में शुक्रवार शाम को एक सामाजिक समारोह से लौट रहे लोगों ने बस रुकवाकर गांव की एक पानी-पताशे की दुकान पर पानी-पताशे खाए। पानी पताशे खाने के बाद शनिवार सवेरे से ही इन लोगों की तबीयत खराब होने लगी।

स्थानीय स्तर पर उपचार करवाया,लेकिन इसका असर नहीं पडा। ज्यादा तबीयत खराब होने पर इन लोगों को आबूरोड चिकित्सालय पहुंचाया गया। एक के बाद एक पुरुष, महिला और बच्चों की तबीयत खराब होने से आबूरोड चिकित्सालय में हडकम्प मच गया। वहां पर चिकित्सकों ने इन लोगों को उपचार शुरु किया।

देर रात तक करीब 50 लोगों को आबूरोड चिकित्सालय भर्ती करवाया गया। वहां इतने बेड की व्यवस्था नहीं होने पर फर्श पर ही उपचार शुरू किया गया। आबूरोड चिकित्सालय के चिकित्सा अधिकारी डाॅ एम एल हिंडोनिया ने बताया कि यह वाटर बोर्न इन्फेक्शन था। इस कारण लोगों डायरिया, वोमिटिंग, हल्का फीवर और सिरदर्द की समस्या आए।

 

उन्होंने बताया कि पानी पताशे में खराब पानी के इस्तेमाल से यह समस्या हो सकती है। इस तरह का जहर शरीर में 24 घंटे तक असरदार रहता है, जिसे तुरंत उपचार करके कंट्रोल किया जा सकता है। उन्होंने बातया कि आबूरोड चिकित्सालय में शनिवार रात आठ बजे से मरीज आने शुरू हुए। तुरंत उपचार देने से रात को करीब ग्यारह बजे तक इन लोगों का स्वास्थ्य लाभ हो गया। शनिवार को सवेरे तक 11 लोग ही चिकित्सालय में भती थे, शेष लोगों को डिस्चार्ज कर दिया गया था।

रविवार दोपहर में सिरोही जिला चिकित्सालय में भी इसी गांव से तीन बच्चों समेत छह लोग बीमार हालत में पहुंचे। डाॅक्टर विरेन्द्र महात्मा ने बताया कि इन सभी का स्वास्थ्य ठीक है। उन्होंने भी खराब पानी या पानी में बर्फ के इस्तेमाल के कारण फूड पाइजनिंग होने की बात कही। शाम को जिला कलक्टर बाबूलाल मीणा ने जिला चिकित्सालय में इन मरीजों की कुशलक्षेम जानी।

दुकानदार गिरफ्तार, सेंपल भरे

इस घटना के बाद प्रशासन हरकत में आया। रेवदर उपखण्ड अधिकारी शेलेन्द्रसिंह ने सबगुरु न्यूज को बताया कि घटना के बाद दुकानदार को गिरफ्तार कर लिया गया है। उन्होंने बताया कि वहां से सेम्पल भी लिए गए हैं। दुकान को सीज कर दिया
गया हैं।

-स्वाद के आगे स्वास्थ्य को न करें नजरअंदाज

पानी पूडी में प्रदूषित पानी या अखाद्य बर्फ का इस्तेमाल करने से फूड प्वाइजनिंग हो सकती है। तेज गर्मी के कारण बैक्टीरिया की क्रियाशीलता और बढ जाती है। ऐसे में ऐसे पानी का पताशे के साथ इस्तेमाल करने से जान पर आफत भी आ सकती हैं।

सिरोही जिला चिकित्सालय के चिकित्साधिकारी डाॅ विरेन्द्र महात्मा ने बताया कि बाजार में जो बर्फ उपलब्ध होता है वह सिर्फ चिलिंग के काम में आता है यह खाने के लिए नहीं होता है। ऐसे में कई बार लोग इसे पानी में मिलाकर पीते हैं, जो हानिकारक हो सकता है।

 

Check Also

शादी का झांसा देकर 7 महीने तक करता रहा युवती से दुष्कर्म

  किशनगंज। बिहार के किशनगंज जिले में शादी का झांसा देकर एक युवती से कई …