Breaking News
Home / breaking / नाजायज ताल्लुक छिपाने के लिए धर्मभाई के हाथों पति को मरवाया

नाजायज ताल्लुक छिपाने के लिए धर्मभाई के हाथों पति को मरवाया

 

जयपुर। नाजायज संबंधों में बाधक बन रहे पति को उसकी पत्नी ने अपने धर्म भाई के साथ मिलकर रास्ते से हटा दिया। खास बात यह भी है कि उन्होंने धनतेरस की रात यह वारदात अंजाम दी। चंदवाजी थाना पुलिस ने पत्नी, प्रेमी और प्रेमी के साथी को गिरफ्तार कर लिया है।

पुलिस अधीक्षक जयपुर ग्रामीण शंकर दत्त शर्मा ने बताया कि 26 अक्टूबर की सुबह अचरोल दुग्ध सहकार समिति के सामने एक व्यक्ति की लाश पड़ी होने की सूचना पर थानाधिकारी विक्रांत शर्मा व सीओ लाखन सिंह मीणामौके पर पहुंचे। तब मृतक की शिनाख्त पूनम गोयर पुत्र बाबूलाल (35) निवासी रेलवे स्टेशन के पास सांभर लेक के रूप में हुई।

 

हत्या की वारदात को गंभीरता से लेते हुए अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक मुख्यालय ज्ञान चंद यादव व वृताधिकारी जमवारामगढ़ लाखन सिंह के सुपरविजन में थानाधिकारी विक्रांत शर्मा के नेतृत्व में अचरोल थाने से एक टीम गठित की गई।

अनुसंधान में सामने आयाकि मृतक पूनम गोयर की पत्नी अंजू के अकबर नाम के व्यक्ति के साथ नाजायज संबंध है। तब अकबर को हिरासत में लेकर गहनता से पूछताछ की गई। पुलिस सख्ती के आगे वह टूट गया और वारदात कबूल ली।

 यूं बने नाजायज ताल्लुक

अकबर ने खुलासा किया कि मृतक पूनम और उसकी पत्नी जयपुर में सिरसा-बिंदायका में किराए का कमरा लेकर रहते है।

पूनम व अंजू एक मैरिज गार्डन में सफाई का काम करते हैं। आरोपी अकबर भी गार्डन में तंदूरी रोटी बनाने का काम करता था। काम के दौरान मृतक की पत्नी अंजू से नाजायज संबंध स्थापित हो गए। अंजू देवी ने अपने संबंधों को छुपाने के लिए आरोपी को अपना धर्म भाई भी बना लिया था। मृतक को दोनों के संबंधों के बारे में पता लगने पर एतराज करता था।

 

पत्नी अंजू लड़ाई झगड़ा कर अपने पीहर आ गई थी। 25 अक्टूबर को अंजू ने अपने पति पूनम को मारने की योजना से प्रेमी अकबर को अपने पीहर अचरोल बुलाया। इसके बाद आरोपी अकबर ने वारदात में अपने दोस्त मन्नू खान, अफसर व अल्लादीन को साथ मिलाया।

उन्होंने 25 अक्टूबर की रात को अंजू के पति पूनम से संपर्क किया। उसे मोटरसाइकिल से अचरोल छोड़ने के नाम से पहले जयपुर में सिरसी रोड और फिर अचरोल में शराब पिलाई। इसके बाद आरोपियों ने नशे में धुत पूनम की पत्थरों से सिर व चेहरा कुचलकर हत्या कर दी। इसके बाद अंजू को सूचना दी।

इससे पहले भी दो बार आरोपियों ने मृतक पूनम को मारने की कोशिश की पर सफल नहीं हो सके। पहली बार अकबर ने अंजू को सेलफोस की टैबलेट दी थी। पर वह उसे दे नहीं पाई। दूसरी बार 11 अक्टूबर की रात्रि काम से घर आते समय चलती बाइक पर लोहे की रॉड से वार कर घटना को दुर्घटना का रूप देने का प्रयास किया।

Check Also

MP में कार-कंटेनर भिड़ंत में 5 की मौत, एक घायल

  बड़वानी। मध्यप्रदेश के बड़वानी जिले के अंजड़ थाना क्षेत्र में आज कार और कंटेनर …