Breaking News
Home / breaking / बाबरी बरसी 6 दिसंबर : संगीनों के साये में अयोध्या

बाबरी बरसी 6 दिसंबर : संगीनों के साये में अयोध्या

अयोध्या। पिछले महीने विश्व हिन्दू परिषद की धर्मसभा के आयोजन के चलते सुर्खियों में रही अयोध्या में गुरूवार को कड़े सुरक्षा इंतजामों के बीच हिन्दू और मुस्लिम संगठन अपने अपने तरीके से बाबरी विध्वंश की 26वीं बरसी मनाएंगे।

विवादित ढांचा गिराए जाने के दिन छह दिसम्बर को हिन्दू संगठनों ने शौर्य दिवस तथा मुस्लिम संगठनों यौमे गम दिवस मनाने की घोषणा की है। जिले में एहितियात के तौर पर धारा 144 लागू कर दी गई है।

जन्मभूमि स्थल और हनुमानगढ़ी मंदिर समेत नगर का चप्पा चप्पा संगीनों के सख्त पहरे में रहेगा। इसके अलावा जगह जगह लगे क्लोज सर्किट टीवी कैमर और ड्रोन के जरिये शरारती और अवांछनीय तत्वों पर कड़ी नजर रखी जाएगी।

विवादित ढांचे के विध्वंस की बरसी की पूर्व संध्या पर अयोध्या में कारसेवा करने की घोषणा करने वाले हिन्दू समाज पार्टी के चार कार्यकर्ताओं को बुधवार को गिरफ्तार कर लिया गया। इस सिलसिले में मंगलवार को महंत परमहंस दास को भी गिरफ्तार करके जेल भेज दिया गया है। मंदिर निर्माण के लिए मांग कर रहे महंत दास ने छह दिसम्बर को आत्मदाह की घोषणा की थी।

पुलिस अधीक्षक नगर अनिल कुमार सिसौदिया ने बुधवार को बताया कि छह दिसम्बर 1992 को विवादित ढांचा ध्वस्त होने की 26वीं बरसी पर विभिन्न संगठनों ने कई कार्यक्रम आयोजित करने की घोषणा की है। इसके मद्देनजर अयोध्या में सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए हैं।

उधर, विवादित श्रीरामजन्मभूमि मुकदमे में बाबरी मस्जिद मुद्दई इकबाल अंसारी को फिर मिली जान से मारने की धमकी मिली है। अंसारी ने बुधवार को बताया कि बिहार के समस्तीपुर जिले से रजिस्ट्री डाक से पत्र भेजा गया है, जिसमें लिखा गया है कि बाबरी मस्जिद का मुकदमा वापस ले लो वरना जान से मार दिये जाओगे।

हाथ से लिखे दो पन्ने के पत्र में लिखा है कि बाबरी मस्जिद मुकदमे की जो आप पैरवी कर रहे हो अदालत में जा करके सुलह-समझौता कर लो और वहां रामलला का मंदिर बनने दो नहीं तो इसका परिणाम बुरा होगा।

पिछली 25 नवम्बर को विश्व हिन्दू परिषद द्वारा आयोजित धर्मसभा के दौरान अयोध्या देश भर में आकर्षण का केन्द्र रही थी। हालांकि इस धर्मसभा में संत मंदिर निर्माण का कोई ठोस रास्ता नहीं सुझा सके थे और न ही शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे के बयान के बाद मंदिर निर्माण की कोई तारीख ही तय कर सके।

इस बीच सिसौदिया ने बताया कि सुरक्षा के चाकचौबंद इंतजामों के तहत 12 अपर पुलिस अधीक्षक, 15 पुलिस उपाधीक्षक, 170 निरीक्षकों और उपनिरीक्षकों के अलावा दस कम्पनी पीएसी और रैपिड एक्शन फोर्स (आरएएफ) की तैनाती की गयी है। विवादित श्रीरामजन्मभूमि परिसर के आसपास लगे क्षेत्रों में सुरक्षा बलों को अतिरिक्त सतर्कता बरतने के लिये निर्देश दिए गए हैं।

पुलिस ने बताया कि हिन्दू समाज पार्टी के कार्यकर्ता अरविंद सिंह रावत और संतोष दूबे समेत चार लोगों को यैलोजोन के बैरियर से गिरफ्तार किया गया है। यह लोग बहराइच, लखनऊ, गोण्डा के निवासी बताये जा रहे हैं।

इसके पूर्व हिन्दू समाज पार्टी के अध्यक्ष कमलेश तिवारी को लखनऊ-अयोध्या की सीमा पर मवई के पास गिरफ्तार किया जा चुका है। तिवारी अयोध्या में कारसेवा करने की घोषणा करने के बाद अपने कार्यक्रम के तहत राम जन्मभूमि पर राम मंदिर निर्माण के लिये कारसेवा करने के लिए आ रहे थे।

सिसौदिया ने बताया कि अयोध्या में आने वाले व्यक्तियों की कड़ी निगरानी की जा रही है। असामाजिक तत्वों पर कड़ी नजर रखने के निर्देश दिए गए हैं। अयोध्या के होटल, गेस्ट हाउस, रेलवे स्टेशन, बस स्टेशन एवं सराय पर भी आने जाने वालों की निगरानी के आदेश दिए गए हैं।

इस सिलसिले में जिलाधिकारी डॉ अनिल कुमार पाठक तथा वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक जोगेन्द्र कुमार और अपर जिलाधिकारी नगर विंध्यवासिनी राय की अध्यक्षता में एक बैठक आयोजित की गई जिसमें सुरक्षा व्यवस्था का गहन समीक्षा की गई। पूरे जिले निषेधाज्ञा लागू है।

सिसौदिया ने बताया कि छह दिसम्बर को आयोजित सभी कार्यक्रमों की वीडियोग्राफी तथा फोटोग्राफी कराने के साथ-साथ सादी वर्दी में फोर्स तैनात की गई है। सुरक्षा व्यवस्था को देखते हुए इसे चार जोन तथा नौ सेक्टरों में बांटा गया है। चप्पे-चप्पे पर सुरक्षा कर्मी तैनात किए गए है। अयोध्या के चारों तरफ लगे बैरियर लगाकर सघन चेकिंग की जा रही है।

विवादित ढांचा ध्वस्त होने की बरसी पर धर्मसेना ने भी सरयू के किनारे राम की पैड़ी पर उपवास दिवस के रूप में मनाने का निर्णय लिया है। बाबरी विध्वंस के आरोपी तथा धर्मसेना के अध्यक्ष संतोष दूबे ने भी अयोध्या में स्थित विवादित रामजन्मभूमि पर विराजमान रामलला के मंदिर के निर्माण के लिये छह दिसम्बर को सैकड़ों की संख्या में धर्मसेना सरयू के किनारे राम की पैड़ी पर पांच घंटे का उपवास करेगी।

इस बीच विश्व हिन्दू परिषद मुख्यालय कारसेवकपुरम में शौर्य दिवस नही मनाने की घोषणा की है हालांकि कुछ हिन्दू संगठनों ने छह दिवस को शौर्य दिवस के रूप में मनाने की घोषणा की है। दूसरी ओर मुस्लिम संगठनों ने अपने व्यापारिक प्रतिष्ठान बंद रखकर यौमे गम दिवस मनाने का निर्णय लिया है।

मुस्लिम मस्जिदों में बाबरी मस्जिद के पुन: निर्माण के लिए दुआ करेंगे। इंडियन यूनियन मुस्लिम लीग ने भी गांधी पार्क में धरना प्रदर्शन करके दुबारा बाबरी मस्जिद बनाने की अपील करेगी। इसके साथ ही साथ एक ज्ञापन मण्डलायुक्त के माध्यम से राष्ट्रपति को सौंपेगी।

इंडियन यूनियन मुस्लिम लीग के प्रदेश अध्यक्ष डा. नजमुल हसन गनी ने कहा कि दुबारा बाबरी मस्जिद की तामील हो और मुल्क में अमन-चैन के लिये दुआएं मांगी जाएंगी। वहीं मुस्लिम लीग मजलिस ने कहा है कि बाबरी मस्जिद के विध्वंस पर कल हम लोग काला दिवस के रूप में मनाएंगे।

इंडियन यूनियन मुस्लिम समाज के जिलाध्यक्ष हाजी मोहम्मद इस्माईल ने कहा कि छह दिसम्बर को बाबरी मस्जिद के दुबारा तामील के लिये दुआ और मुल्क में अमन शांति के लिए दुआएं मांगी जाएंगी।

सिसौदिया ने बताया कि छह दिसम्बर असामाजिक तत्वों पर कड़ी नजर रखने के लिए जिला प्रशासन ने पूरे इंतजाम कर लिए हैं। उन्होंने बताया कि किसी को कानून के साथ छेड़छाड़ की अनुमति नहीं दी जाएगी।

Check Also

महिला सीए को एसीबी ने आठ लाख की रिश्वत लेते हुए पकड़ा

अहमदाबाद। गुजरात पुलिस के भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो ने एक व्यक्ति से आठ लाख रूपए का …