Breaking News
Home / breaking / ब्यावर गैस सिलेंडर दुखान्तिका का असली जिम्मेदार कौन ? सवाल और गहराया

ब्यावर गैस सिलेंडर दुखान्तिका का असली जिम्मेदार कौन ? सवाल और गहराया

अजमेर। ब्यावर गैस सिलेंडर दुखान्तिका के जांच अधिकारी राजस्व मण्डल के अध्यक्ष वी.श्रीनिवास ने शुक्रवार को अजमेर के राजस्व मण्डल सभागार में जनसुनवाई की। श्रीनिवास को जनसुनवाई के दौरान ब्यावर दुखांतिका से पीड़ित व्यक्तियों के परिजनों तथा इससे जुड़े विभिन्न व्यक्तियों ने अपनी पीड़ा व्यक्त की। इसी के साथ यह सवाल और गहरा गया है कि 15 नामदेव छीपा समाजबंधुओं सहित 20 जिंदगियों को मौत का कफ़न ओढ़ाने के लिए कौन जिम्मेदार है?

हलवाई बताकर जिसकी लापरवाही को इन मौतों के लिए जिम्मेदार ठहराया जा रहा था, खुद उस युवक गजेन्द्र सिंह ने भी गत 21 फरवरी को जयपुर के एसएमएस अस्पताल में दम तोड़ दिया था।

जनसुनवाई के दौरान मृतक गजेन्द्र के पिता बसन्त सिंह ने जांच अधिकारी श्रीनिवासन को बताया कि उसका बेटा हलवाई नहीं था। वह तो दूल्हे हेमन्त पाटनेचा के बड़े भाई अमित पाटनेचा का घनिष्ठ दोस्त था और सीमेंट फैक्टरी में नौकरी करता था। वह शादी में आमंत्रित था। जब मायरे की रस्म चल रही थी, तब वह तख्ते पर लेटा हुआ था। तभी एक गैस सिलेंडर में आग लग गई।

गजेंद्र ने हिम्मत दिखाते हुए दूसरों की जान बचाने के लिए जलते सिलेंडर को बाहर लाकर रखा, तभी उसमें धमाका हो गया।
गजेन्द्र के पिता का कहना है कि उनके बेटे ने दूसरों की जान बचाने लिए अपनी जान गंवा दी जबकि उसे ही एफआईआर में नामजद कर लिया गया। बसन्त सिंह का कहना है कि पाटनेचा परिवार से जानकारी लेने पर सब स्पष्ट हो जाएगा लेकिन पुलिस उसकी सुनवाई ही नहीं कर रही है।

जनसुनवाई में अन्य पीड़ित परिवारों ने भी अपने-अपने परिवाद देकर मृतकों के परिजन को सहायता राशि बढाने व हर घर से एक सदस्य को सरकारी नौकरी देने की मांग की।

हर पहलू की होगी जांच

जांच अधिकारी श्रीनिवासन ने बताया कि जांच के दौरान दुर्घटना की परिस्थितियों के बारे में विस्तृत रिपोर्ट तैयार की जाएगी। इसके साथ ही दुखांतिका के लिए दोषी व्यक्तियों की पहचान की जाएगी तथा भविष्य में इस प्रकार की घटना रोकने के लिए सुझाव प्रदान किए जाएंगे।

उन्होंने बताया कि दुखांतिका के संबंध में द्वितीय जनसुनवाई 27 मार्च को अपरान्ह 4.30 बजे उपखण्ड अधिकारी कार्यालय में की जाएगी। इससे पूर्व 2.30 बजे ब्यावर के अमृतकौर चिकित्सालय, 3 बजे गैस एजेंसी, 3.30 बजे मैरिज हॉल तथा 4 बजे अग्निशमन दल का निरीक्षण किया जाएगा।

जनसुनवाई से पूर्व श्रीनिवास ने विभिन्न पेट्रोलियम कम्पनियों के अधिकारियों की बैठक ली। इसमें विभिन्न सुरक्षात्मक उपायों पर चर्चा की गई। इस बैठक में तेल उद्योग सुरक्षा महानिदेशालय के संयुक्त निदेशक प्रदीप तंवर, हिन्दुस्तान पेट्रोलियम के विमल शर्मा, इण्डियन ऑयल के सुधीर गुप्ता, नगर निगम उपायुक्त हिमांशु गुप्ता, राजस्व मण्डल के उपनिबंधक सुरेश सिंधी, ब्यावर नगर परिषद उपायुक्त सुखराम खोखर, अग्निशमन अधिकारी हबीब खान ने दुर्घटना के विभिन्न पहलुओं पर अपने विचार रखें।

यह भी पढ़ें

ब्यावर दुखान्तिका : पाली में छीपा समाज की श्रद्धांजलि सभा 24 फरवरी को, फागोत्सव भी स्थगित

ब्यावर गैस सिलेंडर दुखान्तिका : एक और घायल ने जयपुर में दम तोड़ा, मृतक संख्या 20 हुई

सिलेंडर ब्लास्ट : दूल्हे की मां सहित कुल 19 शव निकाले, 1 अब भी लापता

ब्यावर दुखान्तिका : कलेक्टर के खिलाफ लोगों में रोष, मंत्रियों को घेरा

सिलेंडर ब्लास्ट में मृतक संख्या 10 हुई, मुख्यमंत्री वसुंधरा पहुंचीं, छीपा परिवार को बंधाया ढाढस

Check Also

मोतियाबिंद ऑपरेशन में छह मरीजों की आंखों की रोशनी गई थी, एक की मृत्यु

  वाराणसी । उत्तर प्रदेश में वाराणसी के मारवाड़ी अस्पताल में मोतियाबिंद के ऑपरेशन के बाद …