Breaking News
Home / breaking / राजाजी का करेड़ा में ठाकुर जी का तुलसी संग विवाह

राजाजी का करेड़ा में ठाकुर जी का तुलसी संग विवाह

न्यूज नजर डॉट कॉम

भीलवाड़ा। भीलवाड़ा जिले के राजाजी का करेड़ा गांव में चम्पा बाग चारभुजा मंदिर प्रांगण में नामदेव दर्जी समाज के 35 जोड़ों एवं तुलसी जी विवाह धूमधाम से संम्पन हुआ।


श्री विट्ठलेश्वर नामदेव (दर्जी समाज)समाज सेवा संस्थान रजि.मातृकुंडिया के तत्त्वाधान में तीन दिवसीय आयोजन, दिनांक 5 फरवरी को प्रातः गणपति पूजन के साथ प्रारम्भ हुआ ।गायत्री परिवार के विद्वान पंडितो के द्वारा प्रथम पूज्य श्री गणपति महाराज का आवाहन कर पूजा अर्चना की गई । महिलाओ द्वारा विवाह के मंगल गीत गाये । दिन में 3.00 बजे कलश यात्रा गांव के मंदिर से प्रारम्भ होकर विवाह स्थल तक पहुंची।


आयोजन के दूसरे दिन 6 तारीख को समाज के मंदिर से ठाकुर जी की बारात का रथ में सजधज कर बैंड बाजो के साथ विवाह स्थल पर आगमन हुआ । ठाकुर जी की बारात में समाज के पुरूष ओर महिलाएं बाराती बनकर उमंग उल्लास से नाचते हुए आये। विवाह समिति के द्वारा ठाकुर जी की बारात की अगवानी की गई ।
शाम को समाज के 35 बारातो के आगमन के साथ पंजीयन प्रारम्भ हो गया इसके बाद महिला सँगीत का कार्यक्रम रखा गया गया जिसमें उत्साही बच्चों , महिलाओ ने जमकर डांस किया । रात्री 10 बजे भजन संध्या रखी गई जिसमे देर रात तक भक्ति रस की गंगा बही । बाबूलाल जी तोलम्बिया ,लुहारिया वालो ने मधुर भजनो की प्रस्तुति दी ।
7 फरवरी को प्रातः 9 बजे बिंदोली प्रारंभ हुई जिसमें सबसे आगे ठाकुर जी का रथ ,उसके पीछे 35 घोड़ों पर सजेधजे दूल्हे एवम विशेष रथों में सवार होकर सजीधजी दुल्हने चल रही थी । जगह जगह पर दूल्हा दुल्हनों पर पुष्प वर्षा कर स्वागत किया गया ।बिंदोली मुख्य मार्गो से होती हुई पुनः विवाह स्थल पर आई । तोरण रस्म में सर्वप्रथम ठाकुर के द्वारा तोरण की रस्म अदा की उसके बाद दूल्हों ने तोरण मारने की रस्म पूरी की । दुल्हन की माता व परिवार की महिलाओ ने दूल्हों की आरती उतार कर सभी रस्मे पूरी की । विद्वान पंडितो ने वेदमंत्रों के साथ फेरो की रस्म (पाणिग्रहण ) कराई गई ।दूल्हा दुल्हन ने एक दुसरे को वरमाला पहनाई ।

 

कन्यादान में समाज बंधुओं ने दिल खोलकर सहयोग दिया । सभी नवदम्पतियों को भ्रूण हत्या नही करने की शपथ दिलाई गई।
दिन में आर्शीवाद समारोह में सन्तो के द्वारा श्री नामदेव जी के चित्र पर फुलमाला ,धूप दीप, माल्यार्पण किया गया । तपस्वी सन्त श्री खड़ेश्वरी जी ,महंत श्री सरजुदास जी एवम महंत श्री शीतल बाबा के द्वारा आशीर्वाद प्रदान किया गया । संत-सानिध्य में दूल्हा-दूल्हनो ने माता-पिता के चरण धोकर पूजन कर आरती की ।


समारोह के मुख्य अतिथि समाजसेवी, उद्योगपती सुरेश बाटू अध्यक्ष श्री विट्ठल नामदेव फाउंडेशन जयपुर , विशिष्ठ अतिथिके रूप में भीलवाड़ा निवासी RAS डॉ टीना रोलानिया जयपुर, ममता टेलर, रमेश नागी सूरत ,दामोदर तोलम्बिया सूरत समाज अध्यक्ष,जेठमल सर्वा सूरत समाज सरक्षक , समाजसेवी सत्यनारायण कीजड़ा नागौर, राजकुमार थुथगर पूर्व अध्यक्ष भीलवाड़ा , शिवप्रकाश बुलिया अध्यक्ष भीलवाड़ा, आदित्य बिड़ला ग्रुप के HR मैनेजर ने कार्यक्रम में पधारकर समारोह की शोभा बढ़ाई।

मंचासीन अतिथितियों का विट्ठलेश्वर सन्स्थान के पदाधिकारीयो द्वारा फूलमाला, उपरना, मेवाड़ी साफा पहनाकर व स्मृति चिन्ह प्रदानकर स्वागत किया गया। मुख्य अतिथि सुरेश बाटू साहब ने समाज के भामाशाहो का सम्मान किया जिन्होंने सामूहिक विवाह में खुले दिल से सहयोग राशि प्रदान की ।


सुुश्री पायल गोठवाल, जिसने ढाका (बांग्लादेश)में अतंर्राष्ट्रीय प्रतियोगता ड्रॉप रो बॉल में भारतीय टीम में शामिल होकर गोल्डमेडल जीतकर सम्पूर्ण नामदेव समाज का नाम रोशन किया था, श्रीसुशील जी छापरवाल एवम सत्यनारायण जी नेगी द्वारा 5100,व 2100 ₹ की प्रोत्साहन राशि प्रदान कर सम्मानित किया गया।
आयोजन को सफल बनाने में तन ,मन से जुटे सभी कार्यकर्ताओं का सम्मान किया गया।

डॉ.टीना रोलानिया ने वर वधुओ को मुख्यमंत्री के द्वारा प्रेषित शादी के प्रमाण पत्र दिए । बाटू साहब ने अपने उदबोधन में कहां की समाज मे इस तरह के आयोजन होने चाहिए । समाज की एकजुटता ही हमारी शक्ति है । परिवार में बच्चों की शिक्षा पर भी जोर दिया ।
विवाह आयोजन समिति के मुख्य संयोजक श्रीमान गोर्धन लाल तोलम्बिया ,झुपड़िया एवं सहसंयोजक श्रीमान भगवतीलाल जी छापरवाल ,कारोई का बाटू एवं संस्था अध्यक्ष इन्दरमल जी रुनवाल द्वारा साफा ,फूलमाला पहनाकर स्वागत सम्मान किया गया। आयोजन में अपार जनसमूह की उपस्थिति ने सफलता में चार चांद लगा दिए।
आयोजन की सफलता के लिए दिनरात काम करने वाले सक्रिय कार्यकर्ताओ में जो प्रमुख नाम थे वे है,
मुख्य संयोजक श्री गोवर्धन लाल जी तोलंबिया, संस्थान के अध्यक्ष इंद्रमल रुणवाल, उपाध्यक्ष सुरेश कुमार किजड़ा चित्तौड़गढ़, उप संयोजक भगवती लाल जी छापरवाल, कोषाध्यक्ष जगदीश जी फलोदीया, उपाध्यक्ष शांतिलाल जी ठाडा, ओम प्रकाश लुहाडीया, महावीर छापरवाल कारोई,मोहनलाल जी पीरा, देवीलाल जी नथिया, राजमल जी छापरवाल,मोडूलाल जी कावलिया ,पन्नालाल सर्वा,ओम प्रकाश कीजड़ा, बाबूलाल जी तोलंबिया, चतुर्भुज हरगण सिंगोली, रामेश्वर थुथगर मोही, शिव प्रकाश बुलिया, पारस तोलंबिया, किशन गोपाल छापरवाल, गोविंद तोलम्बिया, चैनसुख पोखरा, राजकुमार थुथगर, शिवप्रसाद बुलिया, नीरज रुणवाल, सुशील छापरवाल, प्रहलाद हरगण, राजेन्द्र छापरवाल ,मनोहर लाल छापरवाल , रामेशवर जी तोलम्बिया व करेड़ा नामदेव दर्जी समाज सहित सक्रिय कार्यकर्ता उदयलाल जी गोठवाल,प्रकाश जी सर्वा,जगदीश जी सर्वा तेजप्रकाश जी नथिया ,हस्तीमल जी सर्वा (सरेरी) कमलेश सर्वा, राधेश्याम टेलर ,घनश्याम सर्वा ,नारायण जी नइवाल आमली,पुष्पेंद्र जी ऊँटवाल नाहरी,निर्मल नेहरिया , रमेश टेलर, एवम करेड़ा व भीलवाड़ा की युवा टीम कैलाशजी मेहर, लकी बुला, दीपक जीडिडवनिया, अनिल छापरवाल, सत्यनारायण ठाड़ा ,मुन्नालाल जी ऊँटवाल, पुरुषोत्तम ठाड़ा, गोपाल बूलिया, अमित बुला, शेलेन्द्र नेहरिया, शांतिलाल छापरवाल, रतन लाल सर्वा मोडका निम्बाहेड़ा, अशोक छापरवाल बागोर, जिनकी सक्रियता एवं सहयोग ने इस कार्यक्रम को भव्य एवम सफल बनाया ।
कार्यक्रम के अंत में संयोजक ने दूर दूर से पधारे सभी समाज बन्धुओं, आयोजन में तन ,मन ,धन से सहयोग प्रदान करने वाले गणमान्य बन्धुओं , सभी वर वधुओं के माता-पिता का आभार प्रकट किया।
विवाह आयोजन में भीलवाड़ा, चित्तौड़गढ़, उदयपुर, राजसमंद जिले के शहर, कस्बों व गांवो से एवम राजस्थान के अन्य जिलों से, गुजरात हरियाणा व मध्य प्रदेश से लगभग 12-13 हजार समाज बन्धुओ ने पधारकर आयोजन की गरिमा बढाई। वर-वधु व उनके परिजन की गरिमामयी उपस्थिति व इनके अतुल्य जनसहयोग से समाज का गौरव और संस्था का मान बढ़ा। आशीर्वाद समारोह का सफलतापूर्वक संचालन गोपाल गोठवाल उदयपुर एवं पारस तोलम्बिया चित्तौड़गढ़ ने किया।

शाम ढलते ढलते सभी दूल्हा-दुल्हनों को विदाई की रस्म दी गई । सभी समाज बन्धुओ ने अपने दिल मे समाज के इस विशाल महाकुम्भ की मीठी मीठी यादे संजोकर अपने गंतव्य स्थलों की ओर प्रस्थान किया ।

Check Also

गणेश विसर्जन आज : 14 गांठों वाला अनंत सूत्र बांह में यूं बांधें

  न्यूज नजर : आज अनंत चतुर्दशी पर्व है। गणपति के पूजन के साथ-साथ इस दिन …