Breaking News
Home / breaking / राष्ट्रीय संत भय्यू महाराज ने खुद को गोली मारकर दी जान

राष्ट्रीय संत भय्यू महाराज ने खुद को गोली मारकर दी जान

इंदौर। एक अप्रत्याशित घटनाक्रम के तहत हाई प्रोफाइल राष्ट्रीय संत भय्यू महाराज ने खुद को गोली मारकर सुसाइड कर ली। सुसाइड करने के पीछे पारिवारिक कलह वजह बताई जा रही है। उन्होंने उसी कैंपस में खुदकुशी की, जहां एक साल पहले उन्होंने अपनी दूसरी पत्नी से शादी रचाई थी।

जानकारी के अनुसार भय्यू महाराज ने मंगलवार दोपहर को इंदौर के सिल्वर स्प्रिंग स्थित अपने बंगले पर खुद को गोली मार ली। भय्यू महाराज को उनके नजदीकी निजी अस्पताल लेकर पहुंचे, जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया।

भय्यू महाराज पिछले साल 30 अप्रेल को सिल्वर स्प्रिंग क्लब हाउस में दूसरी बार विवाह के बंधन में बंधे थे। बेहद निजी समारोह में पारिवारिक सदस्यों की मौजूदगी में वे डॉ. आयुषी शर्मा के साथ दोबारा विवाह सूत्र में बंध गए थे।

पत्नी माधवी के निधन के बाद आश्रम में ही रहने वाली डॉ. आयुषी के साथ उन्होंने इंदौर के सिल्वर स्प्रिंग क्लब हाउस में सात फेरे लिए थे। अब इसी कैंपस में बने बंगले में उन्होंने खुदकुशी कर ली।

कौन थे भय्यू महाराज

शुजालपुर के एक किसान परिवार में जन्मे भय्यूजी महाराज का असली नाम उदयसिंह देखमुख था। इंदौर में बापट चौराहे पर उनका आश्रम है जहां से वे अपने ट्रस्ट के सामाजिक कार्यों का संचालन करते थे।
भय्यू महाराज की पहली पत्नी का नाम माधवी था जिनका निधन हो चुका है। माधवी से उनकी एक बेटी कुहू है जो फिलहाल पुणे में पढ़ाई कर रही है। भय्यू महाराज नाम तब चर्चा में आया था, जब भ्रष्टाचार विरोधी आंदोलन के दौरान भूख हड़ताल पर बैठे अन्ना हजारे को मनाने के लिए यूपीए सरकार ने उनसे संपर्क किया था।

पूर्व राष्ट्रपति प्रतिभा पाटिल, पीएम नरेंद्र मोदी, महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री विलासराव देखमुख, शरद पवार, लता मंगेशकर, उद्धव ठाकरे, राज ठाकरे, आशा भोंसले, अनुराधा पौंडवाल, फिल्म एक्टर मिलिंद गुणाजी जैसी हस्तियां उनके आश्रम आ चुके हैं।

Check Also

मोतियाबिंद ऑपरेशन में छह मरीजों की आंखों की रोशनी गई थी, एक की मृत्यु

  वाराणसी । उत्तर प्रदेश में वाराणसी के मारवाड़ी अस्पताल में मोतियाबिंद के ऑपरेशन के बाद …