Breaking News
Home / breaking / श्रीराम के 54 अरब हस्तलिखित नामों की परिक्रमा का 16 दिन मिलेगा सौभाग्य

श्रीराम के 54 अरब हस्तलिखित नामों की परिक्रमा का 16 दिन मिलेगा सौभाग्य

अजमेर। मर्यादा पुरूषोत्तम भगवान श्रीराम के 54 अरब हस्तलिखित नामों की महापरिक्रमा 31 दिसंबर से 15 जनवरी तक आजाद पार्क में आयोजित की जाएगी।

श्रीराम नाम महामंत्र परिक्रमा समारोह समिति के तत्वावधान व श्री मानव मंगल सेवा न्यास तथा श्रीराम नाम-धन संग्रह बैंक के सहयोग से 16 दिन तक परिक्रमा का अनुष्ठान चलेगा। महापरिक्रमा स्थल को सजाकर अयोध्या नगरी का रूप दिया जाएगा। राजस्थान सहित देशभर से राम नाम साधक शिरकत करेेंगे।

परिक्रमा की शुरूआत सुबह 6:15 बजे होगी तथा श्रृद्धालु रात्रि 8:15 बजे तक धर्मलाभ ले सकेंगे। परिक्रमा पांडाल में ही प्रतिदिन दोपहर 2ः30 बजे से विभिन्न मण्डलियों द्वारा सुंदरकाण्ड पाठ किया जाएगा। शाम 5: 30 बजे से संत महात्माओं के प्रवचन होंगे। इस दौरान श्रीराम के साधकों, समाज सेवियों सहित अन्य का सम्मान किया जाएगा। शाम 7 बजे महाआरती होगी। महाआरती के बाद शाम 7: 30 बजे से धार्मिक व सामाजिक संस्थाओं की ओर से भजन कीर्तन की प्रस्तुतियां दी जाएगी।

श्रीराम साधकों व वरिष्ठजनों का होगा सम्मान

समिति के संयोजक सुनील दत्त जैन ने बताया कि आयोजन के सफल संचालन के लिए शुक्रवार को स्वामी कॉम्पलेक्स में आयोजित बैठक में तय किया गया कि महापरिक्रमा के दौरान हर दिन शाम को संतों के प्रवचन होंगे। इस दौरान राम नाम की महिमा पर व्याख्यान होगा। संत प्रवचन के बाद सुंदरकांड का पाठ और राम कीर्तन होगा। इसके लिए कार्यक्रम स्थल पर राम दरबार सजाया जाएगा।

परिक्रमा स्थल पर होने वाले आयोजनों में नियमित रूप से विभिन्न धार्मिक संस्थानों के संतों का सान्निध्य मिलेगा। इस मौके पर समाज के विभिन्न क्षेत्रों में काम करने वाली सामाजिक संस्थाओं के प्रतिनिधियों, पत्रकारिता के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य करने वाले बंधुओं का भी सम्मान किया जाएगा। राम नाम धन संग्रह करने में कीर्तिमान स्थापित करने वाले भक्तगणों का बहुमान किया जाएगा।

कार्यक्रम में हर दिन होने वाली विशेष आरती में शहर के गणमान्य लोग भाग लेंगे। इसमें विभिन्न संगठनों के पदाधिकारी, उद्योगपति और समाज सेवी होंगे। प्रभात फेरी परिवार संन्यास आश्रम की ओर से हर दिन परिक्रमा स्थल पर प्रभात फेरी और भजनों के कार्यक्रम होंगे।

30 दिसंबर को भूमि पूजन और गौ पूजा

समिति के संहसयोजक उमेश गर्ग ने बताया कि राम नाम महामंत्रों की महापरिक्रमा के शुभारंभ से पहले 30 दिसबंर को सुबह 10 बजे भूमि पूजन का कार्यक्रम होगा। इसी दौरान गौ पूजन सहित विभिन्न धार्मिक अनुष्ठान किए जाएंगे। इस मौके पर सहयोगी संस्था श्रीराम नाम महामंत्र समारोह समिति, श्रीमंगल सेवा न्यास, श्रीराम नाम धन संग्रह बैंक, विश्व हिंदू परिषद, तुलसी सेवा संस्थान, केशव माधव परमार्थ मंडल, राधा कृष्ण सखा परिवार, सर्वेश्वर संकीर्तन मंडल, श्री श्याम प्रेम मंडल, तुलसी जयंती समारोह समिति, श्री श्याम सेवक कल्याण संघ, बजरंग दल, दुर्गा वाहिनी, झरनेश्वर सेवा समिति, संाई बाबा मंदिर समिति, श्री समस्त मानस मंडल, आदेश ग्रुप, अजमेर लायंस, सिन्धी समाज महासमिति के पदाधिकारी व सदस्य उपस्थित रहेंगे।

प्रमुख संतों के प्रवचन एवं सत्संग

सहसंयोजक कंवल प्रकाश किशनानी ने बताया कि परिक्रमा स्थल पर 4 जनवरी को वृंदावन के विख्यात संत हित अमबरीश महाराज के संगीतमय संर्कीतन होंगे। जगदगुरू रामदयाल महाराज के प्रवचन 9 जनवरी को शाम 5ः30 बजे से और गौवत्स राधाकिशन महाराज का पावन सान्निध्य और आशीर्वाद मिलेगा। अयोध्या रूपी परिक्रमा स्थल पर 16 दिन तक धर्मप्रेमी संतजन के आशीर्वचनों का लाभ ले सकेंगे।

विभिन्न समितियां बनाई गयी

जानकारी देते हुए मीडिया प्रभारी विजय सिंह मौर्य ने बताया कि महोत्सव के संचालन के लिए मुख्य संयोजक सुनील दत्त जैन, सहसंयोजक कंवल प्रकाश, उमेश गर्ग, सत्यनारायण भंसाली, डॉ. विष्णु चौधरी ने अलग अलग समितियां का गठन किया है। वित्त समिति का काम ओमप्रकाश मंगल, नितिन शर्मा, महेन्द्र जैन मित्तल, अखलेश गोयल, नवीन सोगानी, अनील गर्ग देखेंगे।

संत आथित्य समिति में अभिलाषा यादव, भारती श्रीवास्तव, अलका गौड़ शामिल हैं। श्रीराम नाम साधक सम्मान समिति में बालकिशन पुरोहित व पूरणसिंह चौहान होंगे। सुंदरकाण्ड व्यवस्था समिति का जिम्मा शिवरतन वैष्णव व शंकरसिंह राठौड़ का रहेगा। भजन व सांयकालीन कार्यक्रम समिति के सदस्य ललित शर्मा व नरेन्द्र जैन रहेंगे। प्रचार प्रसार समिति में विनीत लोहिया और विजय मौर्य को जिम्मेदारी सौंपी गई है।

टेंट व पाण्डाल समिति में सुरेश शर्मा, नारायण गुर्जर, अमर सिंह, अशोक राठी तथा मंच सज्जा समिति में पूनम मारोठिया, प्रेम केवलरमानी, हेमंत तायल व पदवेश समिति में मोनू आदेश ग्रुप गुलाबबाड़ी की जिम्मेदारी तय की गई है। लाईट व माईक समिति में अशोक टांक, विनिता जेमन तथा फोटो व वीडियोग्राफी समिति में देवानाथ योगी, महेश मूलचंदानी को जिम्मेदारी दी गई है।

प्रशासनिक व स्वच्छता समिति में राजेन्द्र गांधी, धर्मेन्द्र शर्मा, ज्ञान सारस्वत, कुंदन वैष्णव, धर्मपाल जाटव शामिल हैं। अतिथियों व विशिष्ट अतिथियों के समन्वयक का काम सोमरतन आर्य व नितेश आत्रे देखेंगे। सामाजिक संगठन समिति में मोहन खण्डेलवाल, महेन्द्र तीर्थानी की जिम्मेदारी रहेगी। प्रसाद समिति में रमेश मित्तल, विष्णु कुमार मोरानी तथा सुरक्षा समिति में लेखराज सिंह राठौड एवं चिकित्सा समिति में मोहन तुलस्यानी व डॉ. दीपक भाकर को शामिल किया गया है।

स्वागत समिति में श्यामसुन्दर बंसल, रमेश तापडिया जे.के. शर्मा होंगे। नियंत्रण कक्ष एवं कार्यालय समिति में तुलसी सेवा संस्थान एवं तुलसी जयंती समारोह समिति, सुरेन्द्र बंसल तथा सूचना समिति में विजयलक्ष्मी विजय, मनोज कुमार सोलंकी को जिम्मा सौंपा गया है। इसके अलावा कई अन्य समितियां भी बनाई गईं है जो महापरिक्रमा संचालन के दौरान सक्रियता के साथ काम करेंगी।

आकर्षण का केन्द्र बनेगी अयोध्या नगरी

समिति के सहसंयोजक सत्यनारायण भंसाली ने बताया कि श्रीराम नाम महापरिक्रमा के लिए आजाद पार्क में प्रस्तावित अयोध्या नगरी शहरवासियों के लिए विशेष आकर्षण का केन्द्र होगी। परिक्रमा स्थल पर विशाल वाटर प्रूफ पण्डाल लगाया जाएगा जिसे अयोध्या नगरी का रूप दिया जाएगा। समूचे परिसर क्षेत्र में ध्वनि व प्रकाश की आधुनिक व्यवस्था होगी। पण्डाल में आने वाले लोगों को भगवान श्रीराम की जन्मस्थली अयोध्या के वातावरण का आभास होगा।

अयोध्या नगरी में भगवान श्रीराम और भगवान हनुमान सहित रामायण काल के कई देवी देवताओं के विशेष चित्र होंगे। रामनाम की परिक्रमा के लिए आने वाले भक्तजन का संगीतमय राम पाठ व पुष्पों के साथ स्वागत होगा। परिक्रमा महोत्सव के लिए सभी तैयारियां पूर्ण कर ली गई है। कार्यक्रम स्थल पर सुन्दरकाण्ड, संत प्रवचन, आरती, धार्मिक एवं सांस्कृतिक कार्यक्रमों को अंतिमरूप दिया जा चुका है। बैठक में समारोह समिति के सदस्य उपस्थित थे।

पिछले आयोजन की खबर पढें

श्रीराम नाम महामंत्र परिक्रमा शुरू

52 अरब रामनाम की परिक्रमा शुरू

अजमेर में मची रामनाम की लूट!

रामनाम की गंगा में डुबकी, पूजीं तुलसी महारानी

Check Also

गणेश विसर्जन आज : 14 गांठों वाला अनंत सूत्र बांह में यूं बांधें

  न्यूज नजर : आज अनंत चतुर्दशी पर्व है। गणपति के पूजन के साथ-साथ इस दिन …