Breaking News
Home / breaking / सोने के आभूषण जब शरीर काटने लगे…

सोने के आभूषण जब शरीर काटने लगे…

 

न्यूज नजर : सोने के आभूषण जब शरीर के अंगों को काटने लग जाते हैं तो उनको त्याग देना ही हितकर होता है अन्यथा ये आभूषण व्यक्ति की हैसियत बढा कर उसके अंगों को नासूर बना देंगे और उन नासूर को भरने के लिए आखिर सोने के आभूषणों को त्यागना ही पड़ेगा।

भंवरलाल
ज्योतिषाचार्य एवं संस्थापक,
जोगणिया धाम पुष्कर

सोने के आभूषण जब शरीर पर राज करने लग जाते हैं तो हर धातु उनके सामने मूल्य हीन होती है और सोना शरीर का बादशाह बन जाता है तथा बारह आने की बात करके काम चार आने का ही करता है। अर्थात चार आने के सोने की सुरक्षा के लिए बारह आने खर्च करने पडते हैं। जो स्वयं ही सुरक्षित नही हैं वो दूसरों को सुरक्षित ओर संरक्षित करने के विचार भी नहीं रख सकता है और हश्र यही होता है कि खिलाया पिलाया कुछ भी नहीं ओर गिलास फोड दिया बारह आने का। शुद्ध हानि देता हुआ सोना केवल तेजी मंदी के लिए ही करवटे बदलता रहता है और केवल लाभ हानि का ही अपना खेल खेलता रहता है।
कौवों का महत्व तो केवल श्राद्ध पक्ष तक ही होता है उसके बाद उसे घरो पर बैठने पर उडाया ही जाता है, उसी तरह से सोने के आभूषणों की संस्कृति केवल दिखावे तक ही होती हैं। हकीकत की दुनिया में लोहा ही उसे कैद मे रखता है।

संत जन कहते हैं कि हे मानव स्वर्ण धातु में आत्मा नहीं होती है इस कारण वो सभी के लिए हितकारी ओर कल्याण कारी नहीं हो सकता है। स्वर्ण का धातुमान तो केवल सबके हितों को खरीद लेता है और उन्हे अपना दास बना राज करता है और मुद्रा को राक्षस का रूप देकर उसके हाथ में खंजर थमा देता है। मुद्रा के इस राक्षसी रूप से जन जन त्राहि त्राहि करने लग जाता है।

इसलिए हे मानव जब अपनी बनायी व्यवस्थाएं और नीतियों जब अपना ही पतन करने लग जाये तो उन व्यवस्था ओर नीतियों को तुरंत त्याग देना ही हित कर होता है। अन्यथा वो कान में पहने हुऐ सोने के उस आभूषण की तरह हो जायेगा जो कान को काटने लग जाता है। ऐसे कान काटने वाले आभूषण को शीघ्र त्यागना ही हितकर होता है अन्यथा कान कट जायेगा और सोना भी कान के इलाज के लिए बेचना पड जायेगा।

Check Also

मध्यप्रदेश में शिवराज मामा को आया पसीना

भोपाल। मध्यप्रदेश में 15 साल से लगातार शासन करने वाले शिवराज सिंह चौहान को इस …