Home / breaking / दिग्गज नेता जसवंत सिंह का निधन, मोदी ने जताया दुख

दिग्गज नेता जसवंत सिंह का निधन, मोदी ने जताया दुख

 

नई दिल्ली/जयपुर। अटल बिहारी वाजपेयी सरकार में मंत्री रहे जसवंत सिंह का आज निधन हो गया। वह लंबे समय से बीमार थे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने ट्वीट कर दुख जताया है। सेना के अस्पताल ने बताया कि पूर्व कैबिनेट मंत्री मेजर जसवंत सिंह (सेवानिवृत्त) का रविवार सुबह 6:55 पर निधन हो गया। उन्हें 25 जून को भर्ती कराया गया था और मल्टीअर्गन डिसफंक्शन सिंड्रोम के साथ सेप्सिस का इलाज किया जा रहा था। आज सुबह उन्हें कार्डियक अरेस्ट आया। उनकी कोरोना रिपोर्ट नेगेटिव थी।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने ट्वीट में कहा, ‘जसवंत सिंह जी ने पहले एक सैनिक के रूप में और बाद में राजनीति के साथ अपने लंबे जुड़ाव के दौरान देश की सेवा पूरी मेहनत से की। अटल जी की सरकार के दौरान उन्होंने महत्वपूर्ण विभागों को संभाला और वित्त, रक्षा और बाहरी मामलों की दुनिया में एक मजबूत छाप छोड़ी। उनके निधन से दुखी हूं।’

पीएम मोदी ने आगे कहा, ‘जसवंत सिंह जी को राजनीति और समाज के मामलों पर उनके अनूठे दृष्टिकोण के लिए याद किया जाएगा। उन्होंने भाजपा को मजबूत बनाने में भी योगदान दिया। मैं हमेशा उनके साथ हमारी बातचीत को याद रखूंगा। उनके परिवार और समर्थकों के प्रति संवेदना। ओम शांति।’

वहीं, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा, ‘अनुभवी भाजपा नेता और पूर्व मंत्री श्री जसवंत सिंह जी के निधन से गहरा दुख हुआ। उन्होंने रक्षा मंत्रालय के प्रभारी सहित कई क्षमताओं में देश की सेवा की। उन्होंने खुद को एक प्रभावी मंत्री और सांसद के रूप में प्रतिष्ठित किया। जसवंत सिंह जी को उनकी बौद्धिक क्षमताओं और देश की सेवा में तारकीय रिकॉर्ड के लिए याद किया जाएगा। उन्होंने राजस्थान में भाजपा को मजबूत करने में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। इस दुख की घड़ी में उनके परिवार और समर्थकों के प्रति संवेदना। ॐ शांति।’

 

उत्तर प्रदेश के मुख्य मंत्री योगी आदित्यनाथ ने शोक जताते हुए कहा, ‘पूर्व केंद्रीय मंत्री और वरिष्ठ नेता श्री जसवंत सिंह जी के निधन का दुःखद समाचार प्राप्त हुआ। प्रभु श्री राम से प्रार्थना है कि दिवंगत आत्मा को अपने श्रीचरणों में स्थान दें व परिजनों को इस आघात को सहने की क्षमता प्रदान करें। ॐ शांति।’

देश के कद्दावर नेताओं में से एक, जसवंत सिंह का जन्म 3 जनवरी, 1938 को राजस्थान के बाड़मेर जिले के जसोल गांव में ठाकुर सरदारा सिंह और कुंवर बाईसा के घर हुआ था। जसवंत सिंह की पत्नी का नाम शीतल कंवर है। उनके दो पुत्र हैं। बड़ा बेटा मानवेंद्र सिंह बाड़मेर से पूर्व सांसद रह चुका है। वह भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) में थे और पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी सरकार में 1998 से 2004 के बीच वित्त, रक्षा और विदेश जैसे अहम मंत्रालयों की जिम्मेदारी संभाली। वह 2004 से 2009 तक राज्यसभा में विपक्ष के नेता रहे। यही नहीं। 1998 से 1999 तक योजना आयोग के उपाध्यक्ष भी रहे। जसवंत सिंह को उनके कड़े विचारों के लिए भी जाना जाता था।

राजनीतिक जीवन

वहीं, अगर जसवंत सिंह के राजनीतिक जीवन की बात करें तो 60 के दशक में वो राजनीति में आए, लेकिन शुरुआती तौर पर उन्हें कोई खास पहचान नहीं मिल पाई थी। हालांकि, भाजपा के दिग्गज नेता और पूर्व उपराष्ट्रपति भैरों सिंह शेखावत द्वारा उन्हें जनसंघ में शामिल करने के बाद ही जसवंत को राजनैतिक पहचान मिली। भैरों सिंह शेखावत को जसवंत सिंह का राजनैतिक गुरु माना जाता है। उन्हें पहली सफलता 1980 में मिली जब वह राज्यसभा के लिए चुने गए। वह पहली बार देश के वित्त मंत्री 16 मई, 1996 से 1 जून, 1996 तक रहे जब अटल बिहारी वाजपेयी महज 13 दिनों तक देश के प्रधानमंत्री बने थे।

दो साल बाद जब वाजपेयी फिर से देश के प्रधानमंत्री बनें, तब उन्हें विदेश मंत्रालय का जिम्मा दिया गया। इस पद पर वह 5 दिसंबर, 1998 से एक जुलाई 2002 तक रहे। जुलाई 2002 में उन्हें यशवंत सिन्हा की जगह वित्त मंत्री बनाया गया, जबकि सिन्हा को सिंह की जगह विदेश मंत्रालय भेज दिया गया। वह इस मंत्रालय में मई 2004 के आम चुनावों में राजग सरकार को मिली हार तक रहे। तहलका कांड में जॉर्ज फर्नांडिस का नाम आने के चलते वह 2000-2001 तक देश के रक्षामंत्री भी रहे। कांड में नाम आने से फर्नांडिस को रक्षा मंत्री के पद से इस्तीफा देना पड़ा था।

जिन्नाह की तरीफ करने पर पार्टी से कर दिया था निष्कासित 

अपनी किताब ‘जिन्नाह-इंडिया पार्टिशन इंडिपेंडेंस’ में पाकिस्तान के संस्थापक मोहम्मद अली जिन्नाह की तारीफ करने के चलते भाजपा ने उन्हें 19 अगस्त 2009 को पार्टी से निष्कासित कर दिया था। पार्टी से निकाले जाने से पहले, जसवंत 2004 से 2009 तक संसद के ऊपरी सदन राज्यसभा में विपक्ष के नेता रहे। हालांकि, इसके अगले साल उन्हें पार्टी में फिर से शामिल कर लिया गया। उस साल दार्जीलिंग लोकसभा सीट के लिए हुए उपचुनाव में वह यह सीट जीतने में कामयाब रहे। लेकिन, 2014 के आम चुनावों मे बाड़मेर-जैसलमेर लोकसभा सीट से टिकट नहीं मिलने और आधिकारिक प्रत्याशी के खिलाफ निर्दलीय उम्मीदवार के तौर पर खड़े होने पर उन्हें पार्टी ने फिर से निष्कासित कर दिया था।

उपराष्ट्रपति उम्मीदवार

2012 में उपराष्ट्रपति पद के लिए हुए चुनाव में जसवंत राजग उम्मीदवार थे। तमिलनाडु की मुख्यमंत्री और एआईएडीएमके प्रमुख जे जयललिता ने जसवंत सिंह को समर्थन देने की घोषणा की। जयललिता का कहना था कि ‘सच्चे लोकतंत्र में प्रतिरोध होना चाहिए।’ हालांकि, जसवंत हामिल अंसारी से हार गए जो यूपीए सरकार के उम्मीदवार थे।

Check Also

वोट डालने आई बहू की ससुर ने लूटी अस्मत

बीकानेर। राजस्थान में बीकानेर जिले के कालू थाना क्षेत्र में एक महिला ने अपने ससुर के …