Breaking News
Home / breaking / अजमेर में पहला कोरोना पॉजिटिव मिला, क्लॉक टावर थाना इलाके में कर्फ्यू

अजमेर में पहला कोरोना पॉजिटिव मिला, क्लॉक टावर थाना इलाके में कर्फ्यू

अजमेर। शहर में कोरोना पॉजिटिव का एक मामला सामने आया है । इससे प्रशासन में हड़कम्प मच गया। एहतियातन क्लॉक टावर थाना क्षेत्र में कर्फ्यू लगा दिया गया है। यह पॉजिटिव युवक गत 22 मार्च को पंजाब से अपने घर लौटा। बीती रात उसे जांच के लिए जेएलएन अस्पताल लाया गया।

शहर के खारी कुई क्षेत्र में मोहम्मद फैजल खान नामक युवक की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई है।  फैजल खान पेशे से सेल्समैन है और वह विगत कुछ दिनों में कई राज्यों में घूमा है। यहां वह 22 मार्च को लौटा। रिपोर्ट आने के बाद पुलिस ने आज दोपहर करीब 12 बजे क्लॉक टावर थाना क्षेत्र में कर्फ्यू लगा दिया है और पूरे क्षेत्र को सीज कर दिया है।

चिकित्सा विभाग की ओर से अभी तक अधिकारिक तौर पर मरीज के पाजिटिव होने की पुष्टि नहीं की गई है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार संक्रमित युवक 1 मार्च से ही अजमेर से बाहर गया हुआ था। वह पंजाब, हरियाणा, पानीपत समेत कई अन्य जगह होते हुए 22 मार्च को ट्रेन के जरिए अजमेर वापय पहुंचा। अजमेर में भी वह चार दिन में कई लोगों से मिला है। घर पहुंचने पर जब उसकी तबीयत बिगडी तो 26 मार्च को वह जेएलएन अस्पताल में उपचार के लिए पहुंचा। इस दौरान उसे कोरोना संक्रमित मानते हुए जांच की गई आइसोलेशन वार्ड में भर्ती कर लिया गया।

उसकी जांच रिपोर्ट से उसके पाजिटिव होने की खबर फैलते ही शहर में हडकंप मच गया। आनन फानन प्रशासन ने कार्रवाई करते हुए उसके परिजनों तथा संपर्क में आए व्यक्तियों को तलाश कर उनकी भी जांच की कवायद शुरू कर दी। चिकित्सा महकमें की टीम ने समूचे क्षेत्र को अपनी निगरानी में ले लिया। इस बीच क्लाक टावर थाना क्षेत्र में कर्फ्यू लगा दिया गया है। डिग्गी बाजार तथा खारी कुई का करीब 1 किलोमीटर एरिया सीज कर दिए जाने की सूचना है। हर तरफ भारी संख्या में पुलिस बल तैनात कर दिया गया है तथा लोगों को घर के भीतर ही रहने की हिदायत दी जा रही है।

राजस्थान में कोरोना संक्रमितों के मामले 50 के पार

राजस्थान में अजमेर और भीलवाड़ा में कोनोरा वायरस के दो और पुष्ट मामले सामने आने के बाद कोनोरा रोगियों की संख्या 52 हो गई है। भीलवाड़ा के बांगड़ अस्पताल में 21 वर्षीय युवती में कोरोना वायरस की पुष्टि हुई है। वह अस्पताल में टाइपिस्ट है।

भीलवाड़ा में बांगड़ अस्पताल के एक कोरोना पीड़ित चिकित्सक के काम जारी रखने से अस्पताल के छह चिकित्साकर्मी कोरोना वायरस से ग्रस्त हो गए। इस दौरान उक्त चिकित्सक ने कई मरीजों का उपचार किया था। इसके बाद से भीलवाड़ा में कर्फ्यू लगा हुआ है।

जयपुर के रामगंज क्षेत्र में कल कोरोना पोजिटव का एक और मामला सामने आने के बाद चारीदीवारी के सभी थाना क्षेत्रों में कल रात से ही कर्फ्यू लगा दिया गया है। फिलहाल वहां से नया मामला सामने नहीं आया है।

कोरोना से बचाव के लिए सरकार उठा रही हरसंभव कदम

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा है कि राज्य सरकार प्रदेश में लगातार कोरोना वायरस की स्थिति की निगरानी कर रही है और इससे बचाव के लिए सरकार हरसंभव कदम उठा रही हैं।

गहलोत आज अपने आवास पर वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए वायरस संक्रमण की स्थिति के बारे में राज्य भर में स्थिति की समीक्षा कर रहे थे। समीक्षा बैठक में कोर ग्रुप के अधिकारी, वरिष्ठ डॉक्टर, चिकित्सा विशेषज्ञ शामिल हुए। इस दौरान प्रदेश में कोरोना वायरस की स्तिथि तथा राजधानी जयपुर के सात थाना क्षेत्रों में लगाये कर्फ्यू के चलते वायरस, कानून और व्यवस्था की स्थिति की समीक्षा की गई।

गहलोत ने कहा कि लोगों को कोरोनावायरस से बचाने तथा यह सुनिश्चित करने के लिए कि भोजन और आपूर्ति सभी तक पहुंचाने के कदम उठाए जा रहे हैं। उन्होंने सभी से आग्रह किया कि वे घरों के अंदर रहना जारी रखें। अंदर रहें, लॉकडाउन नियमों का पालन करें और अपने आप और परिवारजनों को बचाएं।

उन्होंने कहा कि नवरात्रि के चौथे दिन, हम मां कुष्मांडा की पूजा करते हैं, जो देवी दुर्गा के रूप में हमारे जीवन से सभी बीमारियों और संकटों को दूर करती हैं। उन्होंने कामना की कि वह सभी को अच्छे स्वास्थ्य, लंबी आयु, ऊर्जा और शक्ति प्रदान करें।

Check Also

संता 10 रुपये दे मैंने तुझे लाख रुपये की बात बताऊँगा

    संता – मुझे 10 रुपये दे बंता – तो मेरा क्या फायदा होगा …