Breaking News
Home / breaking / निर्जला एकादशी 18 को, जानिए व्रत का खास महत्व

निर्जला एकादशी 18 को, जानिए व्रत का खास महत्व

 

 

न्यूज नजर : हिंदू धर्म में हर एकादशी का व्रत महत्वपूर्ण स्थान रखता है। इस दिन भगवान विष्णु की पूजा की जाती है। हर महीने 2 एकादशी आती है लेकिन इन सबमें निर्जला एकादशी का महत्व सबसे जय है।

ज्येष्ठ मास की शुक्ल पक्ष की एकादशी को निर्जला एकादशी कहते है। इस व्रत में पानी का पीना वर्जित होता है. इसलिए इसे निर्जला एकादशी भी कहते हैं। इस बार 18 जून मंगलवार को यह एकादशी मनाई जाएगी।

निर्जला एकादशी को पांडव एकादशी या भीमसेन एकादशी के नाम से जाना जाता हैं। इस व्रत से व्यक्ति को दीर्घायु और मोक्ष की भी प्राप्ति होती है।

 

निर्जला एकादशी का बहुत महत्व है क्योंकि इस एक एकादशी के व्रत से व्यक्ति को पूरे साल की 23 एकादशियों के पुण्य जितने फल की प्राप्ति होती है।

कैसे करें निर्जला एकादशी पर पूजा

इस दिन सुबह शीघ्र उठकर स्नानादि कार्यों से निवृत्त होकर भगवान विष्‍णु का ध्यान लगाकर व्रत का संकल्प लें और मंदिर जाएं। भगवान विष्‍णु की आराधना करें और पूजा अर्चना करें। इस दिन गरीबों को दान दक्षिणा देना न भूलें. अगले दिन मंगलवार को सुबह स्नानादि के बाद पूजा करने के उपरांत व्रत को खोलें

Check Also

श्रीखंड महादेव यात्रा आज से शुरू, जयकारों के साथ पहला जत्था

कुल्लू। देवाधिदेव महादेव के पंच कैलाशों में से एक और उत्तर भारत की सबसे कठिनतम …