Breaking News
Home / breaking / प्राण प्रतिष्ठा के बाद प्रधानमंत्री श्रीराम से मांगी माफी, भाषण की ये बड़ी बातें

प्राण प्रतिष्ठा के बाद प्रधानमंत्री श्रीराम से मांगी माफी, भाषण की ये बड़ी बातें

 

अयोध्या। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को उत्तर प्रदेश के अयोध्या मंदिर में प्राण प्रतिष्ठा समारोह पर लोगों को बधाई दी और कहा कि रामलला अब तंबू में नहीं रहेंगे, वह भव्य मंदिर में रहेंगे। इस शुभ अवसर पर सभी देशवासियों को बहुत-बहुत बधाई। सदियों के बलिदान के बाद भव्य मंदिर का निर्माण हुआ है। सदियों के अभूतपूर्व धैर्य, अनगिनत त्याग, त्याग और तपस्या के बाद हमारे प्रभु राम आए हैं। अयोध्या मंदिर में रामलला मूर्ति की प्राण प्रतिष्ठा के बाद प्रधानमंत्री ने लोगों को संबोधित किया। आइए जानते हैं पीएम मोदी ने अपने सम्बोधन में क्या-क्या महत्वपूर्ण बातें कही…

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि मैं आज प्रभु श्रीराम से क्षमा याचना भी करता हूं। हमारे पुरुषार्थ, त्याग और तपस्या में कुछ तो कमी रह गई होगी कि हम इतनी सदियों तक ये कार्य कर नहीं पाए। आज वो कमी पूरी हुई है। मुझे विश्वास है कि प्रभु राम आज हमें अवश्य क्षमा करेंगे। भारत के संविधान की पहली प्रति में भगवान राम विराजमान हैं। संविधान के अस्तित्व में आने के बाद भी दशकों तक प्रभु श्रीराम के अस्तित्व को लेकर कानूनी लड़ाई चली। मैं आभार व्यक्त करूंगा भारत की न्यायपालिका का, जिसने न्याय की लाज रख ली।
पीएम ने कहा कि 22 जनवरी 2024 का ये सूरज एक अद्भुत आभा लेकर आया है। ये कैलेंडर पर लिखी एक तारीख नहीं, बल्कि ये एक नए कालचक्र का उद्गम है। राम मंदिर के भूमिपूजन के बाद से प्रतिदिन पूरे देश में उमंग और उत्साह बढ़ता ही जा रहा था। निर्माण कार्य देख देशवासियों में हर दिन एक नया विश्वास पैदा हो रहा था। आज हमें सदियों के उस धैर्य की धरोहर मिली है। आज हमें श्रीराम का मंदिर मिला है।

यह भी देखें

 

गुलामी की मानसिकता को तोड़कर उठ खड़ा हुआ राष्ट्र, अतीत के हर दंश से हौसला लेता हुआ राष्ट्र ऐसे ही नव इतिहास का सृजन करता है। आज से हजार साल बाद भी लोग आज की इस तारीख की, आज के इस पल की चर्चा करेंगे।
पीएम मोदी ने कहा कि आज का ये अवसर उत्सव का क्षण तो है ही, लेकिन इसके साथ ही ये क्षण भारतीय समाज की परिपक्वता के बोध का भी क्षण है। हमारे लिए ये अवसर सिर्फ विजय का नहीं, बल्कि विनय का भी है। वो भी एक समय था जब कुछ लोग कहते थे कि राम मंदिर बना तो आग लग जाएगी। ऐसे लोग भारत के सामाजिक भाव की पवित्रता को नहीं जान पाए। रामलला के इस मंदिर का निर्माण भारतीय समाज के शांति, धैर्य, आपसी सद्भाव और समन्वय का भी प्रतीक है। ये निर्माण किसी आग को नहीं बल्कि ऊर्जा को जन्म दे रहा है.

Check Also

मौलाना ने 14 साल की लड़की से किया रेप, प्रेग्नेंट होने पर दी गर्भपात की दवा

कानपुर. एक किशोरी को बहला फुसला कर मौलाना चार माह तक दुष्कर्म करता रहा. जब …