Breaking News
Home / breaking / अमरनाथ यात्रियों पर महंगाई की मार,  टेंट में रहने का किराया बढ़ाया

अमरनाथ यात्रियों पर महंगाई की मार,  टेंट में रहने का किराया बढ़ाया

अनंतनाग। अमरनाथ यात्रियों पर भी महंगाई की मार पड़ी है। पूरी यात्रा में भक्तों के विभिन्न भक्त समितियां लजीज भंडारों की व्यवस्था करती हैं लेकिन रात्रि में रहने के लिए उन्हें टेंट किराए पर लेने पड़ते हैं। इन्हीं टेंट का किराया पिछले साल की तुलना में बढ़ा दिया गया है।

जबकि टेंट में बताई गई पूरी सुविधा भी नहीं होती है। कहीं रजाई नहीं मिलती तो कहीं कंबल, कहीं तकिया नहीं दिया जाता तो कहीं मोबाइल चार्जिंग पॉइंट नहीं होता है। कई टेंट में तो लाइट तक की व्यवस्था नहीं होती है।

 जिला उपायुक्त अनंतनाग (यात्रा अधिकारी) ने अमरनाथ यात्रा के लिए टट्टू, मजदूर, डंडी, तंबू आवास के लिए दरें तय की हैं। प्रत्येक रात और प्रति यात्रि फ्लोर आवास में दो रजाई व गद्दे, कंबल, सोने वाला बैग और तकिया के लिए नुनवान में 330 रुपये चुकाने होंगे।

इसी प्रकार चंदनबाड़ी में 350 रुपये, शेषनाग में 540 रुपये और पंजतरणी में 650 रुपये शुल्क लिया जाएगा। बेड आवास में नुनवान में 430 रुपये, चंदनवाड़ी में 460 रुपये, शेषनाग में 650 रुपये और पंजतरणी में 750 रुपये देने होंगे। यात्रा के दूसरे व अंतिम दिन के पड़ाव के दौरान 30 प्रतिशत छूट दी जाएगी।
इसी तरह सवारी/पैक टट्टू सुविधा में चंदनबाड़ी से पिस्सू टॉप (दोनों तरफ) के लिए 1200 रुपये, पिस्सू टॉप से चंदनबाड़ी के लिए 880 रुपये, चंदनबाड़ी से पिस्सू टॉप व वापस (दोनों तरफ) के लिए 1540 रुपये, जोगीबाल से चंदनबाड़ी के लिए 1650 और चंदनबाड़ी से जोगीबाल व वापसी के लिए 2640 रुपये लिए जाएंगे।
चंदनबाड़ी से नागाकोटी के लिए 2090, नागाकोटी से चंदनबाड़ी के लिए 1700 और चंदनबाड़ी से नागाकोटी व वापसी के लिए 2750 रुपये लिए जाएंगे। इसी तरह अन्य यात्रा रूट के लिए दरें तय की गई हैं। मजदूर और पिट्ठू वाला (20 किलोग्राम वजन) के लिए विभिन्न रूटों पर दरें तय की गई हैं। इसके अलावा दांडी (छह लोगों को ले जाने) के लिए भी विभिन्न रूटों पर दरें तय की गई हैं।

इस तरह बढ़ रही हैं दरें

वर्ष 2022

पहलगाम 275
शेषनाग 400
पंजतरणी 500

वर्ष 2023

पहलगाम 300

शेषनाग 500

पंजतरणी 550

Check Also

श्रीखंड महादेव यात्रा आज से शुरू, जयकारों के साथ पहला जत्था

कुल्लू। देवाधिदेव महादेव के पंच कैलाशों में से एक और उत्तर भारत की सबसे कठिनतम …