Breaking News
Home / breaking / लुधियाना के युवक ने कनाडा में किया सुसाइड, नियाग्रा फॉल में कूद कर दी जान

लुधियाना के युवक ने कनाडा में किया सुसाइड, नियाग्रा फॉल में कूद कर दी जान

लुधियाना। कनाडा में रह रहे पंजाब के लुधियाना के युवक ने वहां आत्महत्या की है। कनाडा पुलिस ने युवक के आत्महत्या की पुष्टि की है। कनाडा में रह रहे लुधियाना के गांव अब्बूवाल का 22 वर्षीय चरनजीत पिछले एक हफ्ते से लापता था। लगभग बीते वीरवार को उसने अपने दोस्तों से नियाग्रा फॉल में काम पर जाने की बात कही थी। उस दिन से चरनजीत वापस नहीं लौटा।
गांव में रहने वाले उसके परिवार के सदस्य रोजाना चरनजीत के मोबाइल पर संपर्क करने की कोशिश कर रहे थे, लेकिन उसका मोबाइल फोन भी स्विच ऑफ आ रहा था। कनाडा पुलिस चरनदीप की गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज करके उसकी तलाश कर रही थी। कनाडा पुलिस के अनुसार चरनजीत सिंह ने नियाग्रा फॉल में कूदकर सुसाइड किया है। हालांकि अभी तक युवक के आत्महत्या के कारणों का पता नहीं चल पाया है। चरनजीत के दोस्तों ने उसके शव की पहचान की है, लेकिन कनाडा पुलिस ने डीएनए जांच के बाद शव देने की बात कही है। चरनदीप ने अपना मोबाइल फोन किनारे रख नियाग्रा फॉल में छलांग लगाई थी।
किसान जोरा सिंह का बड़ा बेटा चरनदीप करीब 10 महीने पहले कनाडा के ब्राम्पटन शहर में स्टडी वीजा पर गया था। जोरा सिंह ने कर्ज लेकर बेटे के सुनहरे भविष्य के लिए उसे कनाडा भेजा था, लेकिन उन्हें बिल्कुल भी अंदाजा नहीं था कि बेटा इस तरह का खौफनाक कदम उठाएगा। गांव व परिवार में मातम माहौल है।

जोरा सिंह ने बताया कि चरनदीप हर रोज घर में फोन करता था। जब कई दिनों तक उसका फोन नहीं आया तो उन्होंने दोस्तों का नंबर लेकर उन्हें फोन किया। ब्राम्पटन स्थित किराए के घर में रहने वाले चरनजीत सिंह के तीन दोस्तों ने बताया कि चरनदीप वीरवार सुबह तड़के निआग्रा फॉल काम पर जाने की बात कहकर गया था और वापस नहीं लौटा।

पिता ने अपने किसी रिश्तेदार के जरिए कनाडा पुलिस को सूचित किया, जिसके बाद चरनदीप की गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज करके उसकी तलाश की जा रही थी। जोरा सिंह की एक छोटी बेटी भी है। बेटे की मौत की खबर के बाद परिवार दुखों का पहाड़ टूट पड़ा है। चरनजीत की मां बिंदर कौर और बहन का रो-रोकर बूरा हाल है।

Check Also

श्रीखंड महादेव यात्रा आज से शुरू, जयकारों के साथ पहला जत्था

कुल्लू। देवाधिदेव महादेव के पंच कैलाशों में से एक और उत्तर भारत की सबसे कठिनतम …