Breaking News
Home / breaking / श्रीराम जानकी सर्वजातीय सामूहिक विवाह सम्मेलन 15 जुलाई को

श्रीराम जानकी सर्वजातीय सामूहिक विवाह सम्मेलन 15 जुलाई को


अजमेर। सेवा भारती समिति की अजमेर ईकाई की ओर से श्रीराम जानकी सर्वजातीय पंचम सामूहिक विवाह सम्मेलन आगामी 15 जुलाई को विजय लक्ष्मी पार्क व आजाद पार्क में आयोजित किया जाएगा।

वैवाहिक समिति अध्यक्ष सुनील दत्त जैन और संयोजक मोहन लाल खंडेलवाल ने शुक्रवार को आयोजित प्रेस वार्ता में बताया कि सम्मेलन में नवदंपतियों को प्रेम प्रकाश आश्रम के संत स्वामी ब्रहमानंद शास्त्री, चित्रकूट धाम पुष्कर के संत पाठकजी महाराज, नृसिंह मंदिर के संत श्याम शरण सुंदर देवाचार्य, गनाहेडा धाम के संत दिव्य मुरारी बापू व संन्यास आश्रम के संत शिव ज्योतिषानंद महाराज का आशीर्वाद मिलेगा।

सामूहिक विवाह सम्मेलन के लिए समाज के सभी जाति वर्ग के परिवारों के विवाह योग्य युवक युवतियों का पंजीकरण किया जाएगा। पंजीकरण राशि 11000 रुपए निर्धारित ​की गई है। विवाह योग्य युवक की आयु 21 वर्ष तथा युवती की आयु 18 साल होना अनिवार्य है। आयु प्रमाणपत्र के रूप में जन्म प्रमाण पत्र मेट्रिक की अंकतालिका अथवा प्रमाण पत्र, स्कूल की टीसी, आधार कार्ड, पेन कार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस आदि में से कोई दो दस्तावेज आवश्यक रूप से जमा कराने होंगे। आधार कार्ड में जन्म तिथि अंकित होना चाहिए।

प्रत्येक वर वधू व उनके अभिभावकों द्वारा पृथक पृथक शपथ पत्र 50 रुपए के स्टांप पर भरकर नोट्ररी पब्लिक से प्रमाणित कराकर पंजीकरण के समय जमा कराना होगा। पंजीकरण के समय ही दो दो गवाहों का प्रमाणीकरण आवश्यक है। पंजीयन फार्म के साथ गवाहों के आधार की प्रतिलिपि संलग्न की जानी आवश्यक है।

 

सामूहिक विवाह में सम्मिलित होने वाले वर वधू को पृथक पृथक आवेदन पत्र संस्था द्वारा निर्धारित प्रारूप में देना होगा। वर वधू की चार चार फोटो आवेदन पत्र के साथ लानी होगी। वर पक्ष व वधू पक्ष को तीस तीस भोजन कूपन संस्था की ओर से निशुुल्क दिए जाएंगे। वर के लिए साफा शेरवानी, मोर, कलंगी, कंठाहार, तुर्रा आदि तथा वधू के लिए विवाह का जोडा, चुन्नी लहंगा, ब्लाउज आदि संस्था की ओर से दिए जाएंगे। वर वधू को उक्त सामग्री 7 जुलाई को संस्था के कार्यालय में प्रदान की जाएगी।

 

 

सेवा भारती अखिल भारतीय संस्था

सेवा भारती समाज के निर्धन, पीडित, वंचित, शोषित एवं उपेक्षित बंधुओं की सेवार्थ एक अखिल भारतीय संस्था है। राष्ट्रीय सेवा भारती द्वारा देशभर में 130000 से अधिक सेवा कार्य संचालित किए जाते हैं। राजस्थान में समिति के जरिए 2842 से अधिक सामूहिक विवाह संपन्न कराए गए हैं। इसी क्रम में अजमेर इकाई 67 जोड़ों का विवाह करा चुकी है। संस्था हर साल इस प्रकार के विवाह की योजना रहती है। भामाशाहों और समाज सेवियों का इस आयोजन में भरपूर आर्थिक सहयोग प्राप्त होता है। लघु उद्धयोग भारती के दशरथ सिंह तंवर ने एक लाख 11 हजार 101 रुपये सहयोग राशि प्रदान करने की घोषणा की।

समिति कार्यालय में करें संपर्क

शिव मंदिर रेंबल रोड हिल व्यूह स्कूल के पास कृष्ण गंज स्थिति कार्यालय 16 जून शाम 5 बजे से शाम 7 बजे तक रजिस्ट्रेशन कराए जा सकेंगे। अधिक जानकारी के लिए दूरभाष 9252058822,9414126965 पर भी संपर्क किया जा सकता है।

आयोजन समिति

संरक्षक मंडल में एडवोकेट जगदीश राणा, खाजूलाल चौहान, गोपाल गोयल, अजीत अग्रवाल, दशरथ सिंह तंवर, अतुल पाटनी, मधु पाटनी, जुगल किशोर शर्मा मार्बल वाले, मुकेश अग्रवाल, राजेश खत्री, आनंद गोयल, राजेन्द्र प्रसाद मित्तल, लेखराज सिंह राठौड, विकास पाराशर, रजनी बधेल, भुवनेश मिश्रा शामिल हैं।

वैवाहिक समिति अध्यक्ष सुनील दत्त जैन। उपाध्यक्ष घनश्याम डाणी, चन्द्रशेखर शर्मा, प्रताप शर्मा, गोपाल सिंह कुशवाहा। संयोजक मोहन लाल खंडेलवाल। सह संयोजक रामचरण बंसल, जितेन्द्र सिंह शेखावत, मोहन सिंह यादव, बनवारीलाल पारीक ब्यावर, किशनगढ से गिरधर पुरोहित। कोषाध्यक्ष मदनलाल खंडेलवाल, सहायक ब्रजेश शर्मा। कार्यालय प्रमुख श्याम बिहारी शर्मा, मदनलाल खंडेलवाल, दिनेश खंडेलवाल। महिला मंडल में दिप्ती पाठक, बबली कंवर, निर्मला सिसोदिया व सोनिया। विधि सलाहाकार एडवोकेट शशिप्रकाश इंदौरिया, सीमांत भारद्वाज व राजेन्द्र शर्मा।

मीडिया प्रभारी जितेन्द्र शेखावत, गिरीश दाधीच व विजय सिंह मौर्य। सहयोगी कार्यकर्ता के रूप में सुखदेव मेघवंशी, मोतीराम, महेश यादव, हनुमान सिंह, बालूराम मालाकार, सुरेन्द्र रावत, विजय सिंह चौहान, राजेन्द्र कुमार, चंद्रशेखर गौड, अजय पुण्डिर, अनूप कुमार, प्रेमसिंह, सुरेश दाधीच, जसवंत शर्मा, नरेश सिसोदिया, नाथूलाल टांक, गोपीकिशन जादम, मदनलाल टांक, योगेश कुमार, रामगोपाल वर्मा, पुखराज सोनी, लक्ष्मण सिंह, नंदलाल गुलथानी, सुरेश शर्मा, युगल किशोर, बलजीत सिंह व नंदलाल शेकानी।

Check Also

श्रीखंड महादेव यात्रा आज से शुरू, जयकारों के साथ पहला जत्था

कुल्लू। देवाधिदेव महादेव के पंच कैलाशों में से एक और उत्तर भारत की सबसे कठिनतम …